Home Home तिवारी ने भट्ट को बताया भ्रम का शिकार

तिवारी ने भट्ट को बताया भ्रम का शिकार

95
0

अल्मोड़ा- प्रदेश में सबसे बड़ा राजनीतिक विकल्प बनने का दावा करने वाली क्षेत्रिय पार्टियां राज्य के मुद्दों को लेकर खुद मतभेदों का शिकार हो रही हैं। ताज़ा मामला हाल ही में दिए गए यूकेडी अध्यक्ष के उस बयान को लेकर है, जिसमें उन्होंने उत्तराखंड को केंद्र शासित राज्य बनाए जाने की पैरवी की है। उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने उक्रांद की उत्तराखण्ड को केन्द्र शासित प्रदेश बनाने की इस मांग पर सख़्त विरोध जताया है। उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने इस मांग का विरोध करते हुए कहा है कि उक्रांद नेता राज्य की अवधारणा को लेकर अब तक भ्रम के शिकार हैं और प्रदेश की जनता को भी इस तरह के बयानों से गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। उपपा के केन्द्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी ने कहा कि राज्य बनने के 19 वर्ष बाद अचानक आया उक्रांद अध्यक्ष दिवाकर भट्ट का यह बयान समझ से बाहर है।
समाचार पत्रों के माध्यम से सामने आये उक्रांद नेता के बयान पर विरोध जताते हुए उपपा अध्यक्ष ने कहा कि लोकतंत्र में जनता की भागीदारी सबसे महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने कहा कि केन्द्र शासित प्रदेश का मतलब होगा राज्य की राजनैतिक स्थिति का अवमूल्यन, जिसे राज्य की जनता कभी स्वीकार नहीं करेगी।
उपपा नेता ने कहा कि राज्य निर्माण से लेकर राज्य के विकास, प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा और जनता के हितों में उनके प्रयासों को लेकर उक्रांद के नेताओं के असमंजस व भ्रम के कारण ही राज्य में एक सशक्त विश्वसनीय राजनैतिक विकल्प की संभावना कमजोर हुई है । इस चुनौती का सामना करने के लिए ही उपपा अस्तित्व में आयी है और दृढ़ता से इसके लिए काम करेगी । उपपा ने उत्तराखंडी जनता एवं राज्य निर्माण के संघर्ष में शामिल तमाम कार्यकर्ताओं से इस तरह के बयानों से भ्रमित न होने की अपील की है ।