Home Home खाद्य प्रसंस्करण में रोजगार की संभावनाएं- भदौरिया

खाद्य प्रसंस्करण में रोजगार की संभावनाएं- भदौरिया

80
0

चमोली –
राजकीय सामुदायिक फल संरक्षण केन्द्र गोपेश्वर में 35 महिला एवं पुरुषों को उद्यमिता विकास एवं आधुनिक खाद्य प्रसंस्करण के तहत सात दिवसीय व्यावसायिक प्रशिक्षण दिया गया। उद्यान विभाग के तत्वावधान में जिला योजना के तहत संचालित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में जेम, जैली, जूस, अचार, चटनी, मुरब्बा, सॉस और सूक्ष्म उद्यम स्थापना का प्रशिक्षण दिया गया। बुधवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन पर जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया एवं मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे ने सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण पूरा करने पर बधाई देते हुए प्रमाण पत्र वितरित किए। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में 33 महिला एवं 3 पुरुषों ने सात दिवसीय खाद्य प्रसंस्करण का प्रशिक्षण लिया।
जिलाधिकारी ने महिलाओं को खाद्य प्रसंस्करण के तहत दिए गए प्रशिक्षण का लाभ उठाने की बात कही। उन्होंने महिलाओं को फलों से जूस, मुरब्बा, जैली, अचार आदि उत्पाद तैयार करने के लिए अपने क्षेत्र में छोटी-छोटी यूनिट स्थापित करने के लिए प्रेरित किया। कहा कि ऐसी यूनिटों की स्थापना से महिलाओं को स्थानीय स्तर पर रोजगार मिलेगा और उनकी आर्थिकी भी मजबूत होगी। 
जिलाधिकारी ने उपभोक्ताओं के हितों की सुरक्षा तथा उपयोग हेतु प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के गुणवत्ता एवं पोषकता पर भी ध्यान देने की बात कही। डीएम ने कहा कि उत्पादों की अच्छी पैकेजिंग और ब्रान्डिंग की जानी भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि उत्पादों के विपणन के लिए प्रसंस्करण केन्द्र में आॅउटलेट तथा मार्केट की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। ताकि उत्पादों को मार्केट उपलब्ध होने पर अच्छा लाभ मिल सके।