Home उत्तराखंड शर्मनाक: परवरिश में नाकाम मां ने ही अपने दुधमुंहे बच्चे को मार...

शर्मनाक: परवरिश में नाकाम मां ने ही अपने दुधमुंहे बच्चे को मार डाला ?

47
0


 रिज़वान मलिक

हरिद्वार–  यहां एक मां को अपने दुधमुंहे बच्चे को पालना इतना ज्यादा अखरा कि वह ममता की बजाय उसे मौत की बाहों का आलिंगन देना ही अपना फ़र्ज़ सणझ बैठी। धर्मनगरी में ममता को शर्मसार करने का एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें एक कलयुगी मां ने अपने दुधमुंहे बच्चे को सिर्फ इस बात के लिए मौत के घाट उतार दिया कि वह उसको दूध पिलाने के लिए परेशान करता था। इस कलयुगी मां ने अपने ही 6 महीने के बच्चे को गंगनहर में फेंक दिया और  मामले को अपहरण का नाम दे दिया।  पुलिस द्वारा इस मामले की जांच की गई और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला गया तो कलयुगी मां का कलंकित चेहरा उजागर हो गया। पुलिस द्वारा  महिला को गिरफ्तार करके संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया हैउल्लेखनीय है कि रविवार को कनखल थाना क्षेत्र के सर्वप्रिय विहार कॉलोनी में 6 माह के बच्चे के अपहरण की घटना के बाद हड़कंप मच गया था। बच्चे के अगवा होने की सूचना पुलिस को दी गई थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने अपनी तफ्तीश शुरू की और आसपास लगे तमाम सीसीटीवी कैमरों को खंगाला। जांच  के बाद एक चौंकाने वाला मामला सामने आया।  घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अबूदाई कृष्णराज एस ने बताया कि कल 3:20 पर पुलिस को सर्वप्रिय विहार कॉलोनी से 3 महीने के बच्चे के खोने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही पुलिस मौकेे पर पहुंची और इस मामले की जांच शुरू की बच्चे की मांं  संगीता बलूणी द्वारा
बताया गया कि वह दूध लेने के लिए बाहर गई थी और बच्चे के साथ अपनी ढाई साल की बेटी को छोड़कर गई थी, मगर जब वापस आईं तो  बड़ी बेटी छत पर थी लेकिन उसका 6 महीने का बच्चा गुम था‌। इस पर संगीता   बलूणी  पत्नी दीपक बलूणी  द्वारा अपहरण का मुकदमा    दर्ज कराया गया।एसएसपी सेंथिल अबूदाई कृष्णराज एस ने बताया कि  सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए तो वहां पर कोई संदिग्ध गतिविधि  सामने नहीं आई। स्थानीय लोगों से पूछताछ की गई तो पता चला कि शिकायतकर्ता महिला स्वयं भी उसी वक्त गंगा घाट की तरफ गई थी। सीसीटीवी कैमरे से पता चला कि संगीता बलूणी खाली बैग में किसी सामान को लेकर जा रही थी और कुछ समय बाद ही वापस आ गई। इस आधार पर पुलिस द्वारा संगीता बलूणी से पूछताछ की गई तो  उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया कि बच्चे को उसके द्वारा ही गंगा में फेंका गया है। पूछताछ में महिला ने बताया  कि उसके दो बच्चे थे, जिनकी देखभाल सही तरीके से नहीं कर पा रहे थे और कुछ समय पहले महिला और उसके पति की तबीयत भी खराब हो गई थी। इसलिए बच्चों की देखभाल करने में काफी दिक्कत हो रही थी। कल सुबह से बच्चा काफी परेशान कर रहा था, इसलिए संगीता बलूणी द्वारा उसकी हत्या कर दी गई। इस मामले में पुलिस ने पहले किडनेपिंग का मुकदमा दर्ज किया था। अब हत्या का मामला दर्ज किया गया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है। पुलिस जांच दल द्वारा 12 घंटे के अंदर ही  मामले का खुलासा कर दिया गया, इसके लिए टीम को ढाई हजार रुपए की इनाम देने की घोषणा की गई है।अपने ही मासूम बच्चे की हत्या करने के बाद आरोपी संगीता बलूनी अब पुलिस की हिरासत में है। इस जुर्म को करने की सजा उसको सलाखों के पीछे जाकर भुगतनी पड़ेगी।कलियुगी मां संगीता बलूणी ने इस घटना को अंजाम देकर मां और बच्चे के रिश्ते  को कलंकित कर दिया। मगर एक सवाल यह उठता है कि आखिर क्यों एक मां ने सिर्फ बच्चों की परवरिश नहीं कर पाने की वजह से अपने ही मासूम बच्चे को मौत के घाट उतार दिया ?