Home एजुकेशन अपराध: हर की पैड़ी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाला...

अपराध: हर की पैड़ी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाला गिरफतार

123
0


हरिद्वार-  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के मोबाइल में हर की पैड़ी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले शख्स को पुलिस ने दबोच लिया है। आरोपी मानसिक रूप से परेशान बताया जा रहा है। जिस नबंर से कॉल कर आरोपी ने धमकी दी थी, पुलिस ने उस मोबाइल को भी जब्त कर लिया है। शनिवार को मुख्यमंत्री के मोबाइल पर एक कॉल आई। सीएम के प्रोटोकॉल अधिकारी आनंद रावत ने कॉल रिसीव की। दूसरी ओर से शख्स ने हर की पैड़ी को पेट्रोल बम से उड़ाने की धमकी देकर कॉल कट कर दी। यह धमकी सुन प्रोटोकॉल अधिकारी के होश उड़ गए। मामले की सूचना तुरंत एसएसपी देहरादून को दी गई। इस धमकी से देहरादून से हरिद्वार तक प्रशासन में हड़कंप मच गया। हरिद्वार व देहरादून पुलिस लगातार आरोपी की धरपकड़ के लिए दिन-रात जुटी हुई थी। कई संदिग्धों से पूछताछ भी की गई। आखिरकार सोमवार को पुलिस ने आरोपी को हरिद्वार के बिलकेश्वर मंदिर गेट के पास से धर दबोचा। पुलिस के अुनसार आरोपी केशवानंद नौटियाल पुत्र विद्यादत्त नौटियाल, निवासी- ग्राम आंताखोली, तहसील – चाकीसैंण, पट्टी- कंडारस्यूं,  जिला- पौड़ी गढ़वाल, वर्तमान में प्रेमनगर, देहरादून क्षेत्र में रहता है। इन दिनों वह हरिद्वार के एक होटल में काम करता है। पूछताछ में आरोपी ने मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमाके की धमकी देने की बात को कबूला है। पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को बताया कि 2016 में आधार कार्ड न बन पाने के कारण वह पौड़ी में आयोजित मुख्यमंत्री जनता दरबार में गया था। उचित कार्रवाई न होने के चलते गुस्से में उसने फरवरी 2016 में श्रीनगर थाना में फोन कर सीएम को नुकसान पहुंचाने की बात कही थी। उसके बाद पुलिस ने लुधियाना से गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया था। करीब एक साल सजा काटने के बाद आरोपी इलाहाबाद चला गया। एक हफ्ते पहले वह हरिद्वार आया। आरोपी ने यह भी बताया कि आधार कार्ड न होने के कारण उसे स्थायी काम नहीं मिल रहा था। जिस कारण वह मजदूरी कर जीवन यापन कर रहा था। इससे वह काफी परेशान हो गया था। और इसी गुस्से में उसने हरकी पैड़ी को उड़ाने की धमकी दी। फिलहाल युवक के खिलाफ 7 साल से कम सजा वाली दो धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और धारा 41(क) नोटिस जारी कर अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। पुलिस के मुताबिक, आरोपी केशवानंद नौटियाल इससे पहले भी एक साल जेल की सजा काट चुका है।