Home उत्तराखंड पहल: सेनाध्यक्ष विपिन रावत ने सीमांत गांव मलारी में किया पौधरोपण

पहल: सेनाध्यक्ष विपिन रावत ने सीमांत गांव मलारी में किया पौधरोपण

193
0

                    देहरादून-  भारत-चीन सीमा से सटे गांव मलारी में गत दिवस 127 टीए बलालियन की ओर से  पर्यावरण व सीमांत गांव के ग्रामीणों की आजीविका में सुधार लाने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पहुंचे  थल सेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत ने पौधरोपण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि चीन सीमा पर किसी प्रकार का कोई विवाद नहीं है। चीन से हमारे मधुर संबंध हैं।थल सेनाध्यक्ष ने गुरुवार को इको टास्क फोर्स के माध्यम से सीमा से सटे गांव में चलाये जा रहे पर्यावरण को सुरक्षित रखने, पलायन को रोकने, सीमावर्ती गांव के लोगों की आर्थिकी को सुधारने के लिए चलाये जा रहे पौधरोपण कार्यक्रम के तहत मलारी में अखरोट व चिलगोजा के पौधोें का रोपण किया गया।

सेनाध्यक्ष ने कहा कि कमायूं और गढ़वाल में वृहद पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है, जिसमें 50 हजार पौधों के रोपण का लक्ष्य रखा गया है। इसी के तहत सीमांत गांव मलारी में पौधरोपण किया गया। उन्होंने कहा कि गांवों की आर्थिकी में सुधार होगा और यहां से पलायन भी रुकेगा। उन्होंने ग्रामीणों से भी अपील की कि जो पौध यहां पर रोपण किये गये हैं उनका संरक्षण भी करें। सेनाध्यक्ष रावत ने कहा कि सीमांत गांवों में संचार की सुविधा मुहैया करवाने के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से बातचीत करेंगे l  थल सेनाध्यक्ष जनरल रावत ने ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं भी सुनीं। इस मौके पर थल सेनाध्यक्ष ने अच्छे कार्य करने वाले जवानों को थल सेना प्रशस्ति पत्र भी दिए।