Home उत्तराखंड शाबाश : जयदीप रावत ने एशियाई बाॅक्सिंग चैंपियनशिप में जीता रजत पदक...

शाबाश : जयदीप रावत ने एशियाई बाॅक्सिंग चैंपियनशिप में जीता रजत पदक , बढ़ाया देश-प्रदेश का मान

128
0

कोमल नेगी

पौड़ी (गढ़वाल)- उत्तराखंड के लाल जयदीप रावत ने एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप में रजत पदक जीत कर प्रदेश ही नहीं, पूरे देश का नाम रोशन किया है। रावत ने कजाकिस्तान के खिलाड़ी को धूल चटाकर देश के लिए सिल्वर मेडल जीता है। उत्तराखंड के होनहार खिलाड़ी खेलों में अपने हुनर का लोहा मनवा रहे हैं। संसाधनों की कमी के बावजूद यहां के खिलाड़ी देश के लिए मेडल जीत कर देश के साथ-साथ प्रदेश को भी गौरवान्वित कर रहे हैं। इन्हीं खिलाड़ियों में शामिल हैं उत्तराखंड के जयदीप रावत, जिन्होंने एशियाई जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप में देश के लिए सिल्वर मेडल जीता है। जयदीप रावत पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले हैं। उनका परिवार थलीसैंण ब्लॉक के पैठाणी गांव में रहता है। कम उम्र में ही जयदीप ने कई उपलब्धियां हासिल कर ली हैं। वह गढ़वाल ब्वॉयज स्पोर्ट्स कंपनी लैंसडौन में दसवीं के छात्र हैं। मुक्केबाजी से जयदीप रावत का विशेष लगाव रहा है और अपने खेल को निखारने के लिए वह लगातार मेहनत कर रहे हैं। शुक्रवार को संयुक्त अरब अमीरात के फुजैराह शहर में एशियाई जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप का आयोजन हुआ, जिसमें जयदीप रावत ने देश के लिए रजत पदक जीता। जयदीप रावत ने कजाकिस्तान के मुक्केबाज को अपने पंच से धराशायी कर दिया और इस तरह सिल्वर मेडल भारत की झोली में आ गया।उत्तराखंड के इस बाॅक्सर ने इनफिनिटी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। इसके लिए जयदीप रावत की दुनियाभर में तारीफ हो रही है।

This image has an empty alt attribute; its file name is IMG-20191019-WA0068-1024x683-1024x683.jpg


जयदीप रावत की ये उपलब्धि इसलिए भी बेहद खास है, क्योंकि उन्होंने जिस चैंपियनशिप में मेडल जीता है, उसमें एशिया के 28 देशों के मुक्केबाजों ने हिस्सा लिया। शुक्रवार को जयदीप रावत ने (66 किलो भार वर्ग) में शानदार प्रदर्शन करते हुए सिल्वर मेडल जीता। जयदीप रावत इससे पहले हंगरी में हुई इंटरनेशनल चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीत चुके हैं। जिला स्तर पर स्वर्ण पदक, राज्य स्तर पर भी दो स्वर्ण पदक, एक रजत, एक कांस्य पदक जयदीप के नाम पहले से हैं।  जयदीप रावत ने अपना अगला लक्ष्य स्वर्ण पदक को बताया है। साथ ही उन्होंने इस जीत का श्रेय अपने माता-पिता और गुरुजनों को दिया है। जीत की खबर मिलते ही पौड़ी गढ़वाल के राठ क्षेत्र में पूरा क्षेत्र जयदीप रावत के वापस घर लौटने का इंतजार कर रहा है। साथ ही ग्रामीणों ने पिछली बार की तरह इस बार भी जयदीप रावत के स्वागत के लिए पूरी तैयारियां जोरशोर से शुरू कर दी है।