Home उत्तराखंड अच्छी खबर : केजरीवाल सरकार ने किया गढ़वाली-कुमाऊंनी-जौनसारी भाषा अकादमी का...

अच्छी खबर : केजरीवाल सरकार ने किया गढ़वाली-कुमाऊंनी-जौनसारी भाषा अकादमी का गठन

52
0

नयी दिल्ली। दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने उत्तराखण्ड की गढ़वाली—कुमाऊंनी—जौनसारी भाषा के संवर्द्धन और विकास के लिये एक अकादमी गठित कर दी है। लोक गायक हीरा सिंह राणा इसके पहले उपाध्यक्ष होंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसके पदेन अध्यक्ष होंगे। अकादमी उत्तराखण्ड की प्रमुख भाषा गढ़वाली-कुमाऊंनी-जौनसारी, जौहार और दारमा घाटी सहित उत्तराखण्ड के विभिन्न इलाकों में बोली जाने वाली बोलियों के संरक्षण और संवर्द्धन का कार्य करेगी।


दिल्ली सरकार के नंबर 2 मंत्री मनीष सिसौदिया ने  ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। इस मौके पर उनके साथ नवगठित अकादमी के उपाध्यक्ष हीरा सिंह राणा और पत्रकार चारू तिवारी भी  मौजूद थे। मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर बताया कि दिल्ली सरकार द्वारा गठित यह देश की पहली अकादमी है, जो उत्तराखंड से सम्बद्ध भाषा साहित्य संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए काम करेगी। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में 20 से 25 लाख उत्तराखण्डी प्रवास करते हैं।  इस फैसले से केजरीवाल सरकार ने उत्तराखण्डवासियों का दिल जीतने का प्रयास तो किया ही है, साथ ही उत्तराखण्ड की सरकारों को भी आईना दिखाया जो कि राज्य गठन के 19 वर्ष होने पर भी इस दिशा में कार्य करने में असफल रही हैं । इस अकादमी का प्रस्ताव 2013 में केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी की सरकार के समय आ गया था और सरकार ने सिद्धांतत: यह मांग मान ली थी। लेकिन उस समय यह सरकार 39 दिनों तक ही चल पाई। अकादमी का गठन होने से दिल्ली में रह रहे प्रवासी उत्तराखण्डियों की मांग अब जाकर पूरी हुई है।