Home Home केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल

केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल

174
0

देहरादून- आयुध निर्माणी संस्थानों के निजीकरण के विरोध में कर्मचारियों का आंदोलन परवान चढ़ने लगा है। इसी के मद्देनजर शनिवार को ऑप्टो इलेक्ट्रॉनिक फैक्ट्री के हजारों कर्मचारियों ने देहरादून में एक विशाल बाइक रैली निकाली । रैली के दौरान केंद्र सरकार और कारपोरेशन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारियों ने अपना विरोध जताया। रैली पूरे फैक्ट्री स्टेट और रायपुर रोड पर घूमते हुए लाडपुर के मुर्गी खाने पर समाप्त हुई जहां पर कारपोरेशन का पुतला दहन किया गया। आंदोलन की आगे की रणनीति के तहत निर्माणी की चारों यूनियनों ने एक संयुक्त मोर्चा बनाया है, जो आगामी 20 अगस्त से 19 septeber तक संस्थानों में हड़ताल करेगा। ओएलएफ के वक्ताओं ने कहा कि 220 वर्ष से पुरानी और ऐतिहासिक फैक्टरियों के कर्मचारियों के हितों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। कर्मचारी नेताओं का कहना था कि हमारी आयुध निर्माणीओं ने जब भी देश को जरूरत पड़ी है 24 घंटे काम करके देश के लिए हथियार बनाए हैं और सेना को उपलब्ध कराकर इस देश की सुरक्षा में अपना योगदान दिया है। लेकिन मौजूदा केंद्र सरकार आयुध निर्माणियों का निजीकरण कर कर्मचारी हितों पर बहुत बड़ा कुठाराघात करने जा रही है।इस अवसर पर ओएलएफ निर्माणी के प्रदीप कुमार ,राजेश नेगी, हरिप्रसाद, उमाशंकर, जेसीएम टू नेता विनय मित्तल, अनिल बडोला, जितेंद्र बहुगुणा, सुरेश कुमार, महेश कोठारी, चतर सिंह, विजय रावत, सुनील कुमार, सौरभ सोनी, अनिल कुमार, अवनीश कांत ,श्रीमती लक्ष्मी ,विमल थपलियाल, नरेंद्र सिंह, मनोज कार्की, मनोज पुंडीर आदि नेतागण उपस्थित थे।