Home उत्तराखंड अनुशासनहीनता: नशे में धुत्त मिला चुनाव ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी

अनुशासनहीनता: नशे में धुत्त मिला चुनाव ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी

133
0


अल्मोड़ा। मादक पदार्थों की रोकथाम के बड़े बड़े दावे करने वाली पुलिस भले ही दो चार तस्करों की धरपकड़ करके अपनी पीठ थपथपा लेती है लेकिन अपने ही विभाग के पियक्कड़ों पर उसकी पकड़ कमजोर होती जा रही है।  पंचायत चुनाव में तस्करों पर ही नहीं बल्कि मित्र पुलिस पर भी शराब का नशा चढ़ने लगा है। चुनाव डयूटी के दौरान एक पुलिसकर्मी द्वारा नशे में धुत होकर फायरिंग करने का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि अब डयूटी के दौरान एक और पुलिसकर्मी शराब के नशे में धुत पाया गया। 
मामला बुधवार देर शाम का है। यहां जिला मुख्यालय से चुनाव डयूटी के लिए जा रहा एक पुलिसकर्मी शराब के नशे में धुत मिला। मामले की जानकारी के बाद पुलिसकर्मी को किसी तरह मेडिकल के लिये यहां जिला अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसका मेडिकल परीक्षण किया। इस दौरान नशे में चूर पुलिस के जवान ने आधे घंटे तक अस्पताल में जमकर उत्पात मचाया। बताया जा रहा है कि पुलिस जवान की ड्यूटीद्वाराहाट थी। गौरतलब है कि बीते दिनों यहां ताकुला बूथ में पंचायत चुनाव में ड्यूटी के दौरान शराब के नशे में धुत एक पुलिसकर्मी द्वारा फायरिंग कर दी गई थी। जिसके बाद पुलिस विभाग की काफी किरकिरी  हुई थी। यह मामला अभी लोगों के जहन से उतरा भी नहीं था कि नये मामले के सामने आने के बाद एक बार फिर पुलिस महकमा सुर्खियों में आ गया है। सवाल यह है कि एक ओर पुलिस युवाओं को नशे की लत से दूर रहने की नसीहत देती है और दूसरी ओर खाकी वर्दी वाले ही नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ड्यूटी के दौरान नशे की हालत में पाये जा रहे हैं। नशेड़ियों, हुड़दंगियों व अराजक तत्वों से निपटने व समाज की सुरक्षा के लिए जिस पुलिस को जिम्मेदारी सौंपी गई है, अगर वही पुलिस ड्यूटी के दौरान नशे में धुत रहती है तो ऐसे में जनता की हिफाजत कौन करेगा, यह एक बड़ा सवाल है। इधर चुनाव ड्यूटी से पहले पुलिस अधिकारियों द्वारा दिये गये निर्देशों का भी अनुपालन होता नजर नहीं आ रहा है। अपने मातहतों की ऐसी अनुशासनहीनता पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस के आला अधिकारी क्या कदम उठाते हैं, यह देखने वाली बात है।