Home उत्तराखंड विधायक की देवरानी ने एंबुलेंस में जन्मी बच्ची, कुछ ही देर में...

विधायक की देवरानी ने एंबुलेंस में जन्मी बच्ची, कुछ ही देर में नवजात की मौत

43
0

अल्मोड़ा- अलग राज्य बनने के 19 सालों के बाद भी उत्तराखंड की स्वास्थ्य सेवाएं पटरी पर नहीं आ पायी हैं। हालात यहां तक खराब हैं कि पहाड़ों में आये दिन गर्भवती महिला या फिर नवजात शिशुओं की मौत होना अब आम होने लगा है। ऐसी ही एक दर्दनाक घटना यहां सामने आयी। गंगोलीहाट की विधायक मीना गंगोला की देवरानी दीपा गंगोला को प्रसव पीड़ा होने पर बीते गुरुवार को बेरीनाग अस्पताल में भर्ती किया गया। चार घंटे तक अस्पताल में इलाज के बाद डॉक्टरों ने उचित स्वास्थ्य व्यवस्था नहीं होने का हवाला देते हुए दीपा को हायर सेंटर ले जाने की सलाह दे दी। जिसके बाद परिजन महिला को लेकर आपात सेवा 108 से अल्मोड़ा के लिए निकल पड़े। अल्मोड़ा लाते समय कांचुलापुल के पास महिला को प्रसव पीड़ा बढ़ गई। 108 को रोक कर महिला का प्रसव कराया गया। तब महिला ने एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया। फिर 108 सेवा जच्चा और बच्चा को लेकर रात करीब नौ बजे अल्मोड़ा अंजलि हास्पीटल पहुंची।

लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही नवजात बच्ची ने दम तोड़ दिया। डॉक्टरों द्वारा नवजात शिशु को मृत घोषित करने पर परिजनों में कोहराम मच गया। जिसके बाद परिजनों ने महिला को निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया है। महिला का हास्पीटल में इलाज चल रहा है। फिलहाल महिला के स्वास्थ्य में सुधार है। लेकिन नवजात बच्ची की मौत हो जाने से महिला समेत परिजन बहुत दुःखी हैं।पहाड़ में तम तोड़ रही स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर लोगों में भी भारी आक्रोश है। बेरीनाग जैसे बड़े क्षेत्र में विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी के चलते आए दिन प्रसव के दौरान नवजात शिशु या फिर महिला को असमय ही मौत के मुंह में समाना पड़ रहा है।