Home उत्तराखंड पागल कुत्तों के आतंक में जीने को मजबूर हैं लोग

पागल कुत्तों के आतंक में जीने को मजबूर हैं लोग

87
0

             

 

थत्यूड़। टिहरी जिले के जौनपुर विकासखंड के थत्यूड़ बाजार एवं ढाणा बाजार में पागल कुत्तों ने इन दिनों आतंक मचा रखा है। इस बीच कई लोगों को पागल कुत्तों ने अपना शिकार भी बना लिया है। आपको बता दें कि इन दिनों पागल कुत्तों ने क्षेत्र में काफी तांडव  मचा रखा है,जिससे क्षेत्र के लोग काफी परेशान हैं। सबसे ज्यादा तो लोगों को कहीं अकेले आने-जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है और आवारा एवं पागल कुत्तों से चलते समय बचकर चलना पड़ता है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि सुबह के समय में लोगों को अपने बच्चों को खुद स्कूल छोड़ने जाना पड़ता है। अभी तक  पागल कुत्ते कई स्कूली बच्चों को काट चुके हैं। दिक्कत यह है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रेबीज के इंजेक्शन नहीं मिलने के कारण लोगों को 35 से 70 किलोमीटर दूर मसूरी देहरादून जाना पड़ रहा है।

इसके अलावा अगस्त माह में एक व्यक्ति को पागल कुत्ते के काटने से रेबीज हो गया था, जिसकी इलाज के दौरान देहरादून के अस्पताल में मौत हो गई थी। कई आवारा पशुओं को भी पागल कुत्ते काट चुके हैं, जिससे लोगों में पागल कुत्तों का बहुत ज्यादा डर बना हुआ है। सामाजिक कार्यकर्ता सुरेंद्र रावत, सोमवारी लाल, जगत सिंह असवाल, दिनेश रौंछेला, राम सिंह भंडारी व नंदकिशोर नौटियाल आदि लोगों ने शासन प्रशासन से मांग की है कि आवारा पागल कुत्तों से निजात दिलाई जाए। वहीं दूसरी तरफ जब  सीएचसी प्रभारी डॉ मोहन डोगरा से बात की गई तो उनका कहना है कि अस्पताल में कम मात्रा में रेबीज वैक्सीन आई थी और अब वह समाप्त हो चुकी है। आगे शासन को डिमांड भेज दी गई है।