Home उत्तराखंड एम्स में चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों की प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित

एम्स में चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों की प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित

41
0

ऋषिकेश- यहां स्थित एम्स में पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया है, जिसमें प्रदेश भर के ब्लड बैंकों के चिकित्सा अधिकारी व स्वास्थ्यकर्मी हिस्सा ले रहे हैं। कार्यशाला के तीसरे दिन विशेषज्ञ चिकित्सकों ने प्रतिभागियों को व्याख्यानमाला व प्रयोगशाला में रक्तकोष से जुड़ी कई अहम जानकारियों का प्रशिक्षण दिया। पांच दिवसीय कार्यशाला के तीसरे दिन बुधवार को प्रतिभागियों को दिए गए अपने संदेश में एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा ​कि स्वास्थ्य से जुड़े विभागों व अधिकारियों का दायित्व रोगियों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना ही नहीं वरन यह सुनिश्चित करना भी है कि मरीजों को उच्च गुणवत्ता का रक्ताधान मिल सके। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने उम्मीद जताई कि इस तरह के प्रशिक्षण से प्रतिभागियों को अपने क्षेत्र में लौटकर रक्तकोष को उच्चीकृत करने में सहायता मिलेगी। जिससे इस क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं का विकास सुनिश्चित होगा। निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि राज्य सरकार को एम्स जैसे संस्थान में चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों के प्रशिक्षण का अवसर मिलने लगा है,इससे उत्तराखंड की स्वास्थ्य सेवाओं में गुणात्मक सुधार होगा। एम्स की रक्तकोष विभागाध्यक्ष डा. गीता नेगी ने क्वालिटी मैनेजमेंट जैसे उपयोगी विषय पर व्याख्यान दिया, जिसमें प्रतिभागियों को उच्च गुणवत्ता संबंधी जानकारियां दी गई। संस्थान की माइक्रोबायोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रो. प्रतिमा गुप्ता ने रक्तधान से होने वाले संक्रमण संबंधी अहम पहलुओं के बारे में बताया और ऐसी स्थिति में रखी जाने वाली सावधानियों से प्रतिभागियों को अवगत कराया। दून के मैक्स हेल्थ केयर के रक्तकोष प्रभारी डा. विनय ने क्रॉसमैचिंग व क्वालिटी कंट्रोल से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत कराया। संस्थान की ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की फैकल्टी डा. दलजीत कौर ने एंटीग्लोबुलिन टेस्ट व रक्तधान से होने वाले संक्रमण के परीक्षण, डा. सुशांत कुमार मीनिया ने रक्तदाता के चयन व डा. आशीष जैन ने रक्तदान प्रक्रिया व रक्तकोष के इक्यूपमेंट मैनेजमेंट,डा. ईशा गुप्ता ने बायोसेफ्टी व डा. पनदीप कौर ने बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट विषय पर व्याख्यान दिए। कार्यशाला में डा. संदीप दीक्षित, डा. यशोदा पाल,डा. अजय मोहन शर्मा,डा. सतीश कुमार, डा. एनके पांडेय, डा. महेश खेतान, डा. सुषमा नेगी, डा. मीनाली राजा, डा. मनीष शर्मा,डा. वीएस बिष्ट, डा. नरेंद्र शर्मा आदि प्रतिभाग कर रहे हैं।