Home Home सुमित हत्याकांड के चारों आरोपियों को उम्रकैद की सजा

सुमित हत्याकांड के चारों आरोपियों को उम्रकैद की सजा

58
0

कोटद्वार। हत्या के चार साल पुराने मामले में अदालत ने चार लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। 31अगस्त को एडीजे प्रतिभा तिवारी की अदालत ने चारों आरोपियों को हत्या का दोषी ठहराया और फैसला सुरक्षित रख लिया था।
अभियोजन पक्ष के अनुसार, 22 मार्च 2015 की शाम करीब छ: बजे लालपुर के बेलाडाट चौराहे पर बाइक सवार बदमाशों ने मानपुर निवासी 28 वर्षीय सुमित पटवाल पुत्र स्व. सतीश पटवाल की गोली मारकर हत्या कर दी थी। मृतक सुमित की मां की तरफ से थाने में घटना की रिपोर्ट लिखाई गई।

This image has an empty alt attribute; its file name is 348296-jail-1-1024x576.jpg

कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के बाद मामले की जांच शुरू कर दी। इसी दौरान पुलिस ने 25 मार्च को हत्या के षडयंत्र में शामिल मानपुर निवासी दीपक रावत को गिरफ्तार किया। दीपक की गिरफ्तारी के अगले दिन ही हत्याकांड के मास्टरमाइंड ग्राम गोकुल (मवाधार-पौड़ी) निवासी सुरेंद्र नेगी उर्फ सूरी पुत्र गणपत सिंह को हरिद्वार से गिरफ्तार किया गया। इसके बाद हत्याकांड में शामिल रहे ग्राम तल्हेड़ी बुजुर्ग (देवबंद, सहारनपुर) निवासी विशाल कुमार उर्फ जौली पुत्र विजेंद्र कुमार और ग्राम दल्हेड़ी (बड़गांव, सहारनपुर) निवासी जौनी शर्मा पुत्र जयपाल शर्मा को भी गिरफ्तार कर लिया गया। उसके बाद से मामले की सुनवाई अपर जिला और सत्र न्यायाधीश की अदालत में चल रही थी। अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी करने वाले सहायक शासकीय अधिवक्ता जितेंद्र सिंह रावत ने बताया कि कोर्ट ने दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाने के साथ ही आरोपियों पर एक-एक लाख रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। रावत के अनुसार, आपसी रंजिश के चलते इस जघन्य हत्याकांड को अंजाम दिया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी सुरेंद्र सिंह उर्फ सूरी और मृतक सुमित के बीच जमीन के लेन-देन को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था, जिसका परिणाम सुमित पटवाल की हत्या के रूप में सामने आया।