Home उत्तराखंड आयोजन: विभिन्न संगठनों ने शहीद दिवस पर की जनसभा, शहादत को किया...

आयोजन: विभिन्न संगठनों ने शहीद दिवस पर की जनसभा, शहादत को किया सलाम

134
0

संवाददाता
देहरादून, 23 मार्च।

भारत की जनवादी नौजवान सभा द्वारा “शहीद भगत सिंह के शहादत दिवस” पर मंगलवार को स्थानीय गांधी पार्क में एक जनसभा का आयोजन  किया गया। इसमें बोलते हुए वक्ताओं ने कहा कि भगत सिंह सुखदेव व राजगुरु  की शहादत के बाद आज़ादी के आंदोलन को एक नई ऊर्जा मिली।इन नौजवानों की इस तरह की शहादत के प्रति पूरे देश में बेहद गुस्सा था। इस बात को उस वक्त के राजनेता भी जानते थे और इस पर पूरे देश में व्यापक बहस चली।
उनपर चले मुकदमे को उन्होंने इसे अपने विचारों को जनता तक पहुंचाने के लिए इस्तेमाल किया, जिसमें व वह सफल भी रहे।उन्होंने अपने इंक़लाब के दर्शन को बताते हुए कहा था कि वह किसी अनावश्यक हिंसा के  पक्षधर नहीं है, वरन साम्राज्यवादी अन्याय पर टिकी इस व्यवस्था को खत्म कर एक मानवीय समाज की स्थापना पर विश्वास करते है, जिसमें कोई व्यक्ति  किसी दूसरे व्यक्ति का शोषण तथा कोई देश किसी अन्य देश का शोषण न कर सके। भगत सिंह समाजवाद के दर्शन में विश्वास करते थे। अपने बाल्यकाल में वो गदर पार्टी के करतार सिंह सराभा को अपना आदर्श मानने लगे थे तथा 1917 की रूसी क्रांति से अत्यधिक प्रभावित थे। वे उसके नेता लेनिन से मिलना चाहते थे, ये अभिलाषा उन्होंने उस वक्त छपी लेनिन की जीवनी पढ़कर पूरी की, जिसे वह अपनी फांसी के दिन तक अपने पास रखे थे।
वक्ताओं ने कहा कि यदि हमारी समझ व दिशा साफ है तो कोई भी व्यक्ति समाज में, नए समाज की रचना में अपना योगदान दे सकता है।
कार्यक्रम में मुमताज अख्तर, दीपक कुमार, आर पी जोशी,  चंद्र कला जोशी, सुनीता पांडे, अरुण कुमार जोशी, स्वप्निल पांडे, राधा नेगी, शम्भू राणा, कुणाल तिवारी, दिनेश पांडे, प्रमोद कुमार आदि ने भाग लिया। सभा का संचालन जनवादी नौजवान सभा के प्रांतीय अध्यक्ष यूसुफ तिवारी ने किया।

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पार्क रोड स्थित कैंट विधानसभा कार्यालय में शहीद भगत सिंह, शहीद सुखदेव, शहीद राजगुरू को उनकी शहादत पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस मौके पर पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द  ने कहा कि शहीद भगत सिंह युवाओं के प्रेरणा स्रोत हैं और आज भी अगर देशभक्ति की बात होती है तो जुबां पर शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु का नाम ही आता है। उन्होंने कहा कि सरदार भगत सिंह का देश को आजाद कराने में महत्वपूर्ण योगदान रहा क्योंकि उन्होंने अपने उग्र आंदोलनों से ब्रिटिश सरकार की नाक में दम कर रखा था जिसके चलते षड्यंत्र रच कर ब्रिटिश सरकार ने 23 मार्च 1931 को सरदार भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी पर चढ़ा दिया और तीनों देशभक्तों ने हंसी हंसी मातृभूमि पर अपने प्राण अर्पित कर दिए।

उन्होंने आगे कहा कि आज देश को ऐसे ही क्रांतिकारी नेताओं की आवश्यकता है जो देश को सही दिशा में ले जा सके। उन्होंने कहा कि आज दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देश की सेवा करने की आवश्यकता है क्योंकि देश इस वक्त दलगत राजनीति की मार झेल रहा है और ज्यादातर निर्णय थोपे जा रहे हैं ।

इस मौके पर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता विपिन खन्ना ने कहा कि जिस तरीके से हमारे देश के क्रांतिकारी नेताओं ने भारत देश को अंग्रेजों के चुंगल से निकाला है, हमें आज भी बहुत से सुधार करने की आवश्यकता है। इस मौके पर आम आदमी पार्टी कैंट विधानसभा के सर्कल हेड मुकेश सिंह, बूथ अध्यक्ष विशाल बंसल, अब्दुल जब्बार, भारत बब्बर, जसपाल सिंह, वडभाग सिंह, बाजवा जी, सुरेंद्र सिंह, गुरु सेवक सिंह, अरविंद आर्य, प्रवीण गुप्ता, संजीव कुमार, नवीन कुमार व गुफरान  आदि पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहे।