Home उत्तराखंड भिक्षा नहीं शिक्षा: आईजी गुंज्याल की मुहिम में सिडकुल एसोसिएशन आया साथ

भिक्षा नहीं शिक्षा: आईजी गुंज्याल की मुहिम में सिडकुल एसोसिएशन आया साथ

186
0

अमित कुमार

हरिद्वार, 18 जनवरी।

पुलिस महानिरीक्षक कुम्भ मेला 2021 संजय गुंज्याल के नेतृत्व में हरिद्वार क्षेत्र में भिक्षा नहीं शिक्षा मुहिम चलाई जा रही है। मुहिम में भिक्षावृति पर अंकुश लगाने के लिये भिक्षुकों को पकड़ कर भिक्षुक गृह में बन्द न करके उनको स्वालम्बी बनाने की प्रक्रिया अपनाई जा रही है।

इस मुहिम के प्रथम चरण में में 6 जनवरी को हर की पैड़ी एवं आसपास के क्षेत्रों से 103 भिक्षुकों को भिक्षुक गृह लाया गया था। जहां उनका कोरोना संक्रमण सम्बंधित रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया गया, जिसमे लाये गए सभी भिक्षुक नेगेटिव पाए गए। भिक्षुकों की स्वास्थ्य जांच और व्यक्तिगत स्वच्छता के बाद उन्हें धार्मिक-सामाजिक संस्थाओं से प्राप्त नए गर्म वस्त्र और ठंड से बचाव के लिये ऊनी कम्बल दिए गए। आईजी कुम्भ संजय गुंज्याल द्वारा भिक्षुकों को स्वावलंबी बनकर जीवनयापन करने हेतु दिशा दिखाते हुए कहा गया कि जो भी भिक्षुक भिक्षावृति छोड़कर सम्मानजनक जीवन जीना चाहते हैं ऐसे भिक्षुकों की कुम्भ मेला पुलिस हर तरह से सहायता करेगी।

सहायता और सहयोग के क्रम में भिक्षुकों को हाथ का हुनर जैसे अगरबत्ती बनाना, खाना बनाना एवम अन्य कार्य सिखाये जाएंगे। इसके अलावा जो भिक्षुक योग्य होंगे उन्हें कुम्भ के दौरान बनने वाले कुम्भ पुलिस के पुलिस लाइन/थाने/ चौकियों में पुलिस के विभिन्न कार्यों हेतु संविदा पर भी रखा जाएगा।

भिक्षा नही शिक्षा मुहिम में जुड़ते हुए आज सिडकुल इंडस्ट्री एसोसिएशन हरिद्वार के पदाधिकारियों के द्वारा आईजी कुम्भ मेला से उनके मेला नियंत्रण भवन स्थित कार्यालय में भेंट की गई और 148 भिक्षुकों के लिये गर्म वस्त्र दान स्वरूप दिए गए। एसोसिएशन के पदाधिकारियों के द्वारा भविष्य में भी इस मुहिम का हिस्सा बने रहने और हर सम्भव सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया।

आईजी कुम्भ से भेंट करने वालों में हरेंद्र गर्ग अध्यक्ष, मनमोहन जैन पैटर्न,  जगदीश लाल पाहवा पैटर्न, एमएल आहूजा, एसपीएस गौतम, गौरव भसीन, अजीत सक्सेना, राजेश शर्मा सिडकुल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन हरिद्वार सम्मिलित रहे। भेंट के दौरान प्रकाश देवली, कमल सिंह पंवार, तपेश कुमार, अनुज कुमार, शांतनु तथा आशीष भारद्वाज पुलिस उपाधीक्षक कुम्भ मेला 2021 हरिद्वार उपस्थित रहे।