Home देश तंज़: राम के देश भारत में पेट्रोल के दाम 93 रु., सीता...

तंज़: राम के देश भारत में पेट्रोल के दाम 93 रु., सीता के देश नेपाल में 53 रु. और रावण के देश श्रीलंका में 51 रु. प्रति लीटर ?

429
0
संवाददाता

 

नयी दिल्ली, 02 फरवरी। अपने तीखे बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी एक बार फिर अपनी ही सरकार पर हमलावर हो गये। जनसत्ता में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस बार पेट्रोल और डीजल के दामों में हुई वृद्धि को लेकर उन्होंने केंद्र सरकार पर कटाक्ष किया है। गौरतलब है कि सोमवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में 2021-22 का आम बजट पेश किया। बजट के दौरान वित्त मंत्री ने डीजल और पेट्रोल पर कृषि सेस लगाने की घोषणा की। आम बजट के अनुसार सरकार ने डीजल पर प्रति लीटर 4 रुपये कृषि सेस और पेट्रोल पर प्रति लीटर 2.5 रुपये कृषि सेस लगाया है। हालाँकि सरकार ने कहा है कि इससे लोगों की जेब पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन उनके अपने ही नेता इस बात को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

जनसत्ता में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पेट्रोल और डीजल पर कृषि सेस लगाये जाने पर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकार पर तंज कसा है। सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर पर एक फोटो शेयर किया है। फोटो में दूसरे देशों से पेट्रोल के दामों की तुलना की गयी है। इस तस्वीर में स्वामी ने लिखा है कि राम के देश भारत में पेट्रोल के दाम 93 रुपये, सीता के देश नेपाल में पेट्रोल 53 रुपये प्रति लीटर और रावण के देश श्रीलंका में पेट्रोल 51 रुपये प्रति लीटर है। उल्लेखनीय है कि दिल्‍ली में इन दिनों पेट्रोल के दाम 86 रुपये प्रति लीटर हैं। वहीं डीजल के दाम भी 76 रुपये हैं। मुंबई में इनकी कीमत और भी अधिक है।

यद्यपि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि पेट्रोल और डीजल पर कृषि सेस को बढ़ाने के साथ ही बेसिक एक्‍साइज ड्यूटी और एडीशन एक्‍साइज ड्यूटी के रेट को कम कर दिया गया है। इसके कारण ग्राहकों पर कृषि सेस का कोई अतिरिक्‍त भार नहीं पड़ेगा।

 

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक, यह पहली बार नहीं है जब सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर के जरिए अपनी ही सरकार पर हमला बोला हो। कुछ ही दिन पहले सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट करते हुए संसद निर्माण के लिए टाटा को कॉन्ट्रैक्ट मिलने पर सवाल खड़े कर दिए थे। स्वामी ने ट्वीट कर लिखा था कि “क्या किसी को पता है कि टाटा को नए संसद परिसर के निर्माण के लिए कैसे चुना गया था? क्या इसके लिए बोली लगी थी या 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले की तरह जो पहले आया उसे ही दे दिया गया?
M dailyhunt.in  photo: Google