Home देश दुस्साहस: हिस्ट्रीशीटर नेता को पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मी शहीद, बदमाश के समर्थकों...

दुस्साहस: हिस्ट्रीशीटर नेता को पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मी शहीद, बदमाश के समर्थकों ने छतों से बरसाईं गोलियां     

155
0

    
हिस्ट्रीशीटर के घर जाने वाले रास्ते को जेसीबी से रोका गया था और छतों से पुलिस पर वर्षा दी गोलियां

संवाददाता

कानपुर- यूपी के अपराध जगत के इतिहास में गुरुवार को एक ऐसी दुस्साहसिक घटना घटी कि पूरे देश में सनसनी फ़ैल गई। यहां एक हिस्ट्रीसीटर को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाश के समर्थकों ने अंधाधुंध गोलियां बरसा कर  8 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया। गोलीबारी में 4 पुलिसकर्मी घायल हो गए। मामला कानपुर के बिठूर  शिवली थाना क्षेत्र का है,  जहां विकरू गांव में दबिश देने गई पुलिस टीम को घेर कर बदमाशों ने उन पर जबरदस्त फायरिंग कर डाली. इससे 8 पुलिस कर्मी शहीद हो गए, जबकि 4 घायल पुलिस कर्मियों का इलाज हॉस्पिटल में चल रहा है.
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मुठभेड़ के दौरान बिठूर थाना प्रभारी समेत कई पुलिसकर्मियों को गोली लगी. पुलिस कानपुर के वांटेड हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई थी. लेकिन इस दौरान घटनास्थल के आसपास की छतों से हमलावरों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं. विकास दूबे कानपुर का हिस्ट्रीशीटर है. इस मुठभेड़ में कुल 8 पुलिस कर्मी शहीद हो गए, जबकि 4 पुलिस कर्मी घायल बताए गए हैं. उनका अभी भी हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है. शहीद हुए पुलिसकर्मियों में देवेंद्र कुमार मिश्र, सीओ बिल्हौर, महेश यादव, एसओ शिवराजपुर, अनूप कुमार, चौकी इंचार्ज मंधना, नेबूलाल, सब इंस्पेक्टर शिवराजपुर, सुल्तान सिंह कांस्टेबल थाना चौबेपुर, राहुल, कांस्टेबल बिठूर, जितेंद्र, कांस्टेबल बिठूर व बबलू कांस्टेबल बिठूर शामिल बताए गए हैं. 
इस जघन्य हत्याकांड की सूचना मिलने पर  यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद कानपुर नगर में कर्तव्यपालन के दौरान अपने प्राणों की बाजी लगाने वाले आठों शहीद पुलिस कार्मिकों को श्रद्धांजलि दी है. पुलिस कार्मिकों की शहादत को नमन करते हुए सीएम योगी ने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए हैं कि इस घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने के साथ ही तत्काल मौके की रिपोर्ट उपलब्ध कराई जाए. दरअसल, 2/3 जुलाई 2020 की रात्रि में ग्राम बिकरू, थाना चौबेपुर, जनपद कानपुर नगर में गांव के ही एक व्यक्ति की शिकायत पर एक शातिर अपराधी को पकड़ने गई कानपुर पुलिस टीम पर अकस्मात हिस्ट्रीशीटर व उसके समर्थकों ने छत से गोलियां बरसा दीं. इसमें एक पुलिस क्षेत्राधिकारी, 3 सब इंस्पेक्टर एवं 4 कांस्टेबल मौके पर ही शहीद हो गए. इधर, बताया गया है कि पुलिस ने 500 से अधिक लोगों के मोबाइल सर्विलांस पर लगा दिए हैं और कानपुर मंडल की सभी सीमाएं भी सील कर दी हैं. बताया गया है कि विकास दुबे कानपुर का हिस्ट्रीशीटर है. उसके ऊपर 60 मुकदमे दर्ज हैं. कानपुर के राहुल तिवारी नाम के व्यक्ति ने 307 का एक मुकदमा उस पर दर्ज कराया है. पुलिस दबिश देने के लिए दुबे के घर पहुंची तो पुलिस को रोकने के लिए हिस्ट्रीशीटर के समर्थकों की ओर से पहले से ही रास्ते में जेसीबी खड़ी कर रास्ता रोक रखा था. इससे पहले कि पुलिस टीम बदमाश दबोच पाती, आसपास की छतों में मोर्चा लिए हुए उसके समर्थकों ने पुलिस टीम पर फायर झोंकनी शुरु कर दी. फिलहाल, एडीजी लॉ एंड आर्डर घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं. जबकि कानपुर की फोरेंसिक टीम जांच पर जुट गई है. इसके साथ ही लखनऊ से भी एक फोरेंसिक टीम गांव में पहुंच चुकी है. एसटीएफ भी जांच पर जुट गई है.