Home देश चाबुक:  महंगाई की मार से पिटे हुए उपभोक्ता पर एक और चोट,...

चाबुक:  महंगाई की मार से पिटे हुए उपभोक्ता पर एक और चोट, रसोई गैस सिलेंडर हुआ फिर महंगा 

79
0
देहरादून- आम उपभोग की वस्तुओं की बढ़ती कीमतों से परेशान लोगों पर केंद्र सरकार ने एक बार फिर महंगाई की चाबुक चला दी है। इस चाबुक की मार पड़ेगी रसोई के बजट पर, क्योंकि रोजमर्रा की
 खाद्य वस्तुओं को खरीदना ही नहीं, अब उन्हें पका कर खाना भी महंगा हो जाएगा। केंद्र सरकार ने रसोई गैस की कीमतों में भारी बढ़ोत्तरी कर दी है। उपभोक्ताओं को अब तक 14.2 किलो वाला घरेलू गैस सिलिंडर 731.50 रुपये में मिल रहा था, जो अब 145 रुपये अधिक यानी 876.50 रुपये में मिलेगा। पिछले वर्ष सितंबर माह से यह पांचवां मौका है जब रसोई गैस के दामों में बढ़ोत्तरी की गई है। इस मूल्यवृद्धि पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोत्तरी आम जनता का शोषण है। भाजपा सरकार ने महंगाई से आम जनता की कमर तोड़कर रख दी है। इसके विरोध में कांग्रेस बृहस्पतिवार को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों और शहर स्तर पर भाजपा सरकार का पुतला दहन करेगी।
उल्लेखनीय है कि दिल्ली का चुनाव खत्म होती ही रसोई गैस उपभोक्ताओं पर महंगाई की मार पड़ी गई है। रसोई गैस का घरेलू सिलिंडर 145 रुपये मंहगा हो गया है। अब घरेलू सिलिंडर की कीमत दून में 876 रुपये हो गई है। अभी तक घरेलू सिलिंडर 731.50 रुपये में मिल रहा था। गैस के दामों में नए साल में बढ़ोतरी होनी थी, लेकिन दिल्ली चुनाव को देखते हुए इसे रोक दिया गया था। जनवरी में बिना सब्सिडी वाले गैस सिलिंडर में 19 रुपये की बढ़ोतरी की गई थी। इसके बाद जैसे ही दिल्ली विधानसभा चुनाव निपटा तेल कंपनियों ने घरेलू गैस के सिलिंडर के दाम में भारी बढ़ोतरी कर दी है।
फरवरी 2020- 876.50 रुपये- 145 रुपये
जनवरी 2020-731.50 रुपये-19 रुपये
दिसंबर 2019-712.50 रुपये-13.50
नवंबर 2019-699 रुपये रुपये-76.50
अक्टबूर 2019-622.50 रुपये-12.50
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने मीडिया को जारी बयान में कहा कि केंद्र ने वर्ष 2020 की शुरुआत में ही रसोई गैस सिलेंडर के दामों में लगातार दूसरी बार भारी वृद्धि की है। केंद्र की मोदी सरकार ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि यह सरकार आम जनता की न होकर कुछ पूंजीपतियों की सरकार है। उन्होंने कहा कि पहले से ही महंगाई की मार झेल रही गरीब जनता पर केंद्र सरकार द्वारा लगातार महंगाई का बोझ डाला जा रहा है।
हालंकि घरेलू गैस सिलेंडर के दाम बढ़ाकर आम आदमी की जेब पर डाका डालने का काम किया है। केंद्र सरकार महंगाई पर लगाम लगाने में पूरी तरह नाकाम हो चुकी है। केंद्र महंगाई से जनता का शोषण कर रही है। चुनावों में बड़े-बड़े वादे करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की गरीब जनता का मजाक उड़ा रहे हैं। प्रीतम ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में कमी होने के बावजूद केंद्र सरकार द्वारा तेल कंपनियों को फायदा पहुंचाते हुए रसोई गैस सिलेंडर के दामों में लगातार वृद्धि की जा रही है।