Home Home साहित्य: सौ साल पहले की कविता – ‘चौकीदार ..

साहित्य: सौ साल पहले की कविता – ‘चौकीदार ..

159
0

डॉ महेंद्र प्रताप सिंह की फेसबुक पोस्ट
ज से लगभग सौ साल पहले अमेरिकन कवयित्री मिरियम वेडर [Miriam Vedder (1894-1983)] ने एक कविता लिखी थी, चौकीदार। पिछले दिनों टेलीग्राफ़ (कोलकाता) ने इसे पहले पन्ने पर प्रकाशित किया था। देशबंधु अख़बार ने इसका हिंदी अनुवाद छापा। कविता (हिंदी अनुवाद और अंग्रेजी में)  यहां प्रस्तुत की जा रही है-
         चौकीदार
तंग-संकरी गलियों से गुजरते
धीमे और सधे कदमों से
चौकीदार ने लहरायी थी अपनी लालटेन
और कहा था – सब कुछ ठीक है
बंद जाली के पीछे बैठी थी एक औरत
जिसके पास अब बचा कुछ भी न था बेचने के लिए
चौकीदार ठिठका था उसके दरवाजे पर 
और चीखा था ऊंची आवाज में – सब कुछ ठीक है
घुप्प अंधेरे में ठिठुर रहा था एक बूढ़ा
जिसके पास नहीं था खाने को एक भी दाना
चौकीदार की चीख पर
वह होंठों ही होंठों में बुदबुदाया – सब कुछ ठीक है
सुनसान सड़क नापते हुए गुजर रहा था चौकीदार
मौन में डूबे एक घर के सामने से 
जहां एक बच्चे की मौत हुई थी
खिड़की के कांच के पीछे झिलमिला रही थी एक पिघलती मोमबत्ती
और चौकीदार ने चीख कर कहा था – सब कुछ ठीक है
चौकीदार ने बितायी अपनी रात
इसी तरह
धीमे और सधे कदमों से चलते हुए
तंग-संकरी गलियों को सुनाते हुए
सब कुछ ठीक है!
सब कुछ ठीक है!!
➖➖➖➖➖➖➖➖
*The Watchman*
✍ Miriam Vedder
The watchman walked the little streets
With slow and steady tread;
He slung his lantern as he went, —
” All’s well! ” the watchman said.
Behind close blinds a woman sat
Who had no more to sell;
The watchman paused before her door, —
” All’s well! ” he cried, ” All’s well! “
An old man shivered in the dark
Who had no bread to eat;
Echoed the watchman’s cry, ” All’s well! “
Along the empty street.
The watchman passed a silent house
Wherein a child had died;
A candle burned against the pane, —
” All’s well! ” the watchman cried.
And through the night the watchman passed
With slow and steady tread;
And ever to the little streets
” All’s well! ” the
 watchman said.
net/whatsapp
Dr b n Singh के सौजन्य से,सालभर पहले।