Home उत्तराखंड सम्मान: लोकभाषा के सम्मान से नवाजे गये समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी

सम्मान: लोकभाषा के सम्मान से नवाजे गये समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी

182
0

सत्येंद्र सिंह चौहान
ऋषिकेश, 22 फरवरी।

अंतरराष्ट्रीय गढवाल महासभा के अध्यक्ष, निःशुल्क उड़ान शिक्षण संस्थान के निदेशक समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी को लोकभाषा के क्षेेेेेेेेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया है। इस अवसर पर डॉ नेगी ने कहा कि उत्तराखंड की लोक भाषा और लोकसाहित्य लोक जीवन का दर्पण है। लोकसाहित्य में अमूमन काल क्रम नहीं होता। उत्तराखंड का लोकसाहित्य बहुत समृद्ध रहा है। गढ़वाली कुमाऊंनी अत्यंत प्राचीन और समृद्ध भाषाएं हैं। इन भाषाओं का सामाजिक प्रभाव रहा है।

उत्तराखंड की लोकभाषा में दो सौ साल पहले भी चिमनी जलाकर या चांदनी के प्रकाश में लोकनाटक खेले जाते रहे हैं। साहित्य की हर विधा से लोकभाषा संपन्न रही है। उक्त विचार डॉ नेगी ने सोमवार को रोटी बैंक की ओर से अपने सम्मान में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किए। ‘अपना रोटी बैंंक’ देहरादून की कॉर्डिनेटर प्रियंका बाल्मीकि द्वारा मातृभाषा दिवस के उपलक्ष्य में नगर के समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी को लोकभाषा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। ‘अपना रोटी बैंंक’ की कॉर्डिनेटर प्रियंका ने बताया कि उनकी संस्था पिछले एक वर्ष से लगातार गरीब एवं निर्धन परिवारों के बच्चों की स्कूल फीस देने के साथ ही अनेकों गरीब कन्याओं की शादियां करवा चुकी है। संस्था की ओर से सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं समाज सेवा के लिए अपना जीवन सर्मपित करने वाले लोगों को भी चयनित कर सम्मानित किया जाता है।

इसी कड़ी में ऋषिकेश के हरिपुर कलां निवासी डॉ राजे सिंह नेगी को आज उनके प्रतिष्ठान पर सम्मानित किया गया। इस मौके पर रुपाली घावरी, मोनिका पंवार, लक्ष्मण सिंह, मनोज नेगी, प्रवीन असवाल आदि अनेक लोग उपस्थित थे।