सौंदर्य: ग्लिसरीन का इस्तेमाल करते हुए रखें इन बातों का ध्यान

    91
    0
    संपादकीय डेस्क
    आज़ की भागदौड़ भरी जिंदगी में आमतौर पर महिलाओं को झुर्रियां, फाइन लाइन्स, ड्राई पैच और स्किन इंफेक्शन जैसी त्वचा संबंंधी  समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है। लेकिन इन सबका एकमात्र हल ग्लिसरीन ही है। ग्लिसरीन एक रंगहीन, मीठे स्वाद वाला गाढ़ा तरल है। यह पौधे एवं जानवरों दोनों से प्राप्त होता है। यह स्किन के लिए एक बेहतरीन क्लींजर साबित होता है।
     ग्लिसरीन सौंदर्य प्रसाधन में  एक जाना पहचाना नाम है। इसके चमत्कारिक लाभ के कारण यह हर दूसरे त्वचा की देखभाल संबंधी उत्पादोें में मिल जाएगा। यह हर स्किन टाइप की महिलाओं को लाभ पहुंचाता है। इसके अलावा इसे बतौर टोनर भी यूज कर सकते हैं। यह त्वचा को इलास्टिसिटी को बढ़ाने के साथ-साथ स्मूूूूथ स्किन भी प्रदान करता है। चूंकि इसमें एंटी-एजिंग गुण भी होते हैं, इसलिए अगर लंबे समय तक जवां दिखना चाहते हैं तो भी इसे ब्यूटी रूटीन में शामिल करना चाहिए।
      ग्लिसरीन को इस्तेमाल करने के भी कुछ नियम होते हैं। ग्लिसरीन चेहरे के लिए किसी वरदान से कम नहीं लेकिन जरूरी है कि उसे फेस पर सही तरह से अप्लाई किया जाये तथा कुछ बातों का खास ध्यान रखा जाना भी जरूरी है। 
       वैसे तो यह वाटर साल्यूबल, नान टाक्सिक ग्लिसरीन स्किन पर काफी जेंटल होता है। लेकिन अन्य स्किन प्रॉडक्ट्स की ही तरह अगर पहली बार इसे इस्तेमाल कर रहे हैं तो पैच टेस्ट करना न भूलें। पहले इसे हाथों पर अप्लाई करें। यदि फफोले या सूजन या पित्ती जैसे एलर्जी के लक्षण विकसित होते हैं तो डाक्टर से संपर्क करें। 
    ग्लिसरीन आमतौर पर त्वचा पर उपयोग करने के लिए सुरक्षित है। हालांकि इसे कभी भी लंबे समय तक त्वचा पर नहीं छोड़ना चाहिए। इसकी थिक और चिपचिपी प्रकृति चेहरे पर धूल और प्रदूषण को आकर्षित करेगी। इसलिए अप्लाई करने के बाद इसे थोड़ी देर बाद धो लें। वैसे अगर ग्लिसरीन को नाइट स्किन केयर रूटीन में शामिल कर रही हैं और इसे ओवरनाइट मास्क की तरह अप्लाई करना चाहते हैं तो इस स्थिति में इसे गुलाब जल या किसी अन्य स्किन केयर इंग्रीडिएंट के साथ डायल्यूट कर लें। साथ ही इसका इस्तेमाल भी बेहद कम मात्रा में ही करें।
    महिलाएं ग्लिसरीन को अपने फेस पर अप्लाई तो करना चाहती हैं, लेकिन सोचती हैं कि यह पशुओं के द्वारा प्राप्त है। इसलिए इसे अपनाने से कतराती है। ऐसे में वेजिटेबल ग्लिसरीन का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह ग्लिसरीन पौधे के स्रोतों जैसे पाम आयल, सोया या नारियल के तेल से प्राप्त होता है और इसका उपयोग बड़ी संख्या में कास्मेटिक, भोजन और औषधीय उत्पादों में किया जाता है। ऐसे में अपनी स्किन को पैम्पर करने के लिए वेजिटेबल ग्लिसरीन को यूज कर सकते हैं।
    यकीनन ग्लिसरीन का इस्तेमाल करते हुए इन सावधानियों को पूरी तरह बरतने पर आप बिना किसी परेशानी के  खूबसूरती पा सकेंगे।