Home अपराध शर्मनाक: रिश्वतखोरी के मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल को 10 साल का कारावास

शर्मनाक: रिश्वतखोरी के मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल को 10 साल का कारावास

212
0

संवाददाता
देहरादून, 05 अप्रैल।

सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने भ्र्ष्टाचार से जुड़े मामले में एमईएस के लेफ्टिनेंट कर्नल समेत दो आरोपियों को सजा सुनाई है। दोनों आरोपियों पर 65 हजार का जुर्माना भी लगाया गया। जुर्माना न देने पर दोनों को अतिरिक्त सजा भुगतनी पड़ेगी। कोर्ट ने सभी सजाएं एक साथ चलने के आदेश दिए हैं।
अभियोजन पक्ष के अनुसार, रायपुर स्थित आईआरडीई के एमईएस ब्रांच (मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विस) में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल भारत जोशी, निवासी- विज्ञान विहार, रायपुर देहरादून, मूल निवासी- ग्राम पोखड़ा, पौड़ी गढ़वाल और मनीष,  निवासी- आईआरडीई परिसर, देहरादून, मूल निवासी- गार्डन एस्टेट, सेक्टर- 22, द्वारिका, नई दिल्ली को 10 हजार रिश्वत लेते हुए 8 जुलाई 2016 को गिरफ्तार किया था। सीबीआई के वकील सतीश गर्ग के अनुसार, मामले में सीबीआई ने 27 सितंबर 2017 को चार्जशीट दाखिल की। अभियोजन पक्ष ने 14 गवाह और पुख्ता सबूत पेश किए। वहीं आरोपी की तरफ से 10 गवाह कोर्ट में पेश किए गए। सोमवार को स्पेशल जज सीबीआई कोर्ट सुजाता सिंह ने मामले में दोनों आरोपियों को दोषी करार देते हुए लेफ्टिनेंट कर्नल भारत जोशी को अलग अलग धाराओं में 5 साल 5 हजार जुर्माना, 7 साल 25 हजार जुर्माना और 10 साल 25 हजार जुर्माने की सजा सुनाई है। इसी तरह आरोपी मनीष को 5-5 साल की सजा और 5-5 हजार रुपये कुल 15 हज़ार जुर्माने की सजा सुनाई है।

क्या था पूरा मामला

लेफ्टिनेंट कर्नल भारत जोशी ने कुल अनुबंध राशि के 1.5% की दर से Rs.38000 की रिश्वत ठेकेदार हरेन्द्र सिंह से 4 जुलाई 2016 को RAR बिल का 2% की मांग की। शिकायतकर्ता ने 4 जुलाई 2016 को भरत जोशी को 1,0000 रुपये रिश्वत दी और उन्होंने अपनी व्यक्तिगत डायरी में यह प्रविष्टि लिखी। शिकायतकर्ता ने 4 जुलाई 16 को एसडी कार्ड में उनके और भरत जोशी के बीच हुई बातचीत को रिकॉर्ड किया। शिकायतकर्ता ने 6 जुलाई 2016 को सीबीआई को एक लिखित शिकायत प्रस्तुत की। भारत जोशी के खिलाफ 8 जुलाई 2016 को एफआईआर दर्ज की गई थी। भरत जोशी ने शिकायतकर्ता को मनीष के कार्यालय कक्ष में 8 जुलाई 2016 फोन पर 10000 रुपये रिश्वत देने के लिए आमंत्रित किया। मनीष और भरत जोशी मनीष के कमरे में मौजूद थे, जब शिकायतकर्ता 8 जुलाई16 को उनसे मिले। भरत जोशी ने रिश्वत की मांग की और मनीष ने शिकायतकर्ता और भरत जोशी को एक समय में रिश्वत की राशि देने के लिए उकसाया। भरत जोशी को सीबीआई ने रंगे हाथों पकड़ा था। एमपी रिकॉर्डर में वार्तालाप रिकॉर्ड किया गया था।