Home उत्तराखंड शिकंजा: दवाइयों की कालाबाजारी करने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

शिकंजा: दवाइयों की कालाबाजारी करने वाला चढ़ा पुलिस के हत्थे

114
0

एसएसपी ने पुलिस टीम के लिए ईनाम की घोषणा की

संवाददाता

नानकमत्ता, 04 मई। कोरोना काल में एक ओर जहां दवाओं की किल्लत सामने आ रही हैं वहीं दवाओं की कालाबाजारी करने वालों की भी कमी नहीं है। कोरोना महामारी के बीच क्षेत्र में हो रही दवाओं और आवश्यक मेडिकल उपकरणों की कालाबाजारी को रोकने को लेकर नानकमत्ता पुलिस ने शिकंजा कसते हुए एक कार में कालाबाजारी के लिए रखी दवाओं के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

थानाध्यक्ष कमलेश भट्ट ने बताया कि क्षेत्र में हो रही दवाओं की कालाबाजारी को रोकने के लिए आईजी कुमाऊं व एसएसपी जनपद उधम सिंह नगर ने प्रत्येक थानों में थाना प्रभारियों के नेतृत्व में दवाइयां, ऑक्सीजन मेडिकल उपकरणों की कालाबाजारी रोकने हेतु टीमों का गठन किया है। बताया कि नानकमत्ता पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर नानकमत्ता बाजार में भारत गैस एजेंसी के सामने एक पुरानी मारुति कार रोका। कार की तलाशी लेने पर कार के अंदर पांच पेटियों में कोविड-19 बीमारी की रोकथाम के लिए उपयोग की जाने वाली जैनेरिक दवाइयां, मेडाकफ सीरप, पैंटापैन व जोयक्लेप, पैरासिटामोल, कैपमाक्स तथा अन्य कई इंजेक्शनों के साथ आरोपित ग्राम नकुलिया थाना सितारगंज निवासी रंजीत सिंह पुत्र मीता सिंह (35) को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की पूछताछ में आरोपित ने बताया कि वह उक्त दवाएं खिंडा मेडिकल स्टोर नकुलिया से लेकर आया था। जो उसे नानकमत्ता के हरनीत मेडिकल व तिलकधारी मेडिकल स्टोर प्रतापपुर को बिना बिल के सप्लाई करनी थी। पुलिस ने उक्त मेडिकल संचालकों से भी पूछताछ की लेकिन हरनीत मेडिकल स्टोर के संचालक ग्राम बलखेड़ा थाना नानकमत्ता निवासी रंजीत सिंह पुत्र बलवीर सिंह और तिलकधारी मेडिकल स्टोर के संचालक ग्राम प्रतापपुर निवासी हिरामन विश्वास पुत्र आशुतोष विश्वास दोनों स्टोर संचालकों ने ऐसी किसी भी प्रकार की कोई दवाई या इंजेक्शन बिना बिल, टैक्स चोरी के मंगवाने की बात से इंकार कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने आरोपित को नहीं जानने की बात भी कही।

पुलिस ने आरोपित रंजीत सिंह विरुद्ध थाना नानकमत्ता में महामारी अधीनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। इसके साथ ही ड्रग, कॉस्मेटिक एक्ट 1940 के तहत कार्यवाही के लिए ड्रग इंस्पेक्टर जनपद उधम सिंह नगर सुधीर कुमार, जीएसटी की चोरी पर कार्यवाही हेतु वाणिज्यकर अधिकारी खटीमा को रिपोर्ट भेजी है। आरोपित को पकड़े वाली पुलिस टीम में थानाध्यक्ष कमलेश भट्ट, का़ प्रकाश आर्य, का़ हेम चंद्र फुलारा, का़ पंकज बिनवाल आदि शामिल थे। पुलिस टीम को एसएसपी ऊधमसिंहनगर की ओर से 2500 रुपए इनाम देने की घोषणा की गयी है।