Home उत्तराखंड खतराः टिहरी में बरपा कुदरत का कहर, मलबे की चपेट में आए...

खतराः टिहरी में बरपा कुदरत का कहर, मलबे की चपेट में आए कई घर

28
0

संवाददाता
देहरादूनए 19 जुलाई।
उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश ने कहर ढा रखा है। कहीं नदीख्ननाले उफान पर हैं तो कहीं अतिवृष्टि ने लोगों की जान ले ली है। कहीं भूस्खलन लोगों के सिर पर खतरा बन कर मंडरा रहा है तो कहीं बादल फटने की घटना से लोग सहमे हुए हैं।


शनिवार से शुरू हुई बारिश का कहर सोमवार को भी जारी रहा। रविवार को उत्तरकाशी के निकटवर्ती गांव निराकोट और कंकराड़ी में बादल फटने के बरसाती गदेरों में उफान आ गया। जिला आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार कंकराड़ी गांव में दो मकान ध्वस्त हो गए। सबसे ज्यादा नुकसान मांडो गांव में हुआ है। जहां पर 15 से 20 घरों में मलबा घुस गया। वहींए करीब चार से पांच मकान जमींदोज को हो गए हैं। मांडो गांव में देवानन्द भट्ट के परिवार की दो महिलाएं और एक बच्ची मलबे में दब गए। रेस्क्यू टीम ने सोमवार सुबह तीनों के शव निकाले। मृतकों में माधरी देवी (42)ए रीतू (38) और कुमारी ईशु (6) हैं। एक व्यत्तिQ गदेरे में बह गया जिसका कुछ पता नहीं चल पाया।
वहींए बारिश और भूस्खलन से प्रदेश में मलबा आने से 50 से ज्यादा संपर्क मार्ग बंद हैं। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटे भारी गुजर सकते हैं। इस दौरान देहरादूनए हरिद्वारए पौड़ी और नैनीताल में भारी बारिश हो सकती है।

टिहरी के मेढ़ गांव में फटा बादल


टिहरी जिले के भिलंगना क्षेत्र के मेढ़ गांव में तड़के बादल फटने की सूचना है। हालांकि इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं आई है। घटना सुबह तड़के 4ः00 बजे की बताई जा रही है। कुछ लोगों के घर मलबे में दबे हैं। गांव के ही रहने वाले भगवान सिंह ने बताया कि सुबह बेहद तेज आवाज आने पर उन्होंने ग्रामीणों को जगाया। इससे लोगों की जान बच गई। नुकसान का आंकलन को प्रशासन की टीम मौके के लिए रवाना हो गई।

राजधानी की सड़कें बनीं तालाब
देहरादून में मानसून की बारिश आफत बनकर बरस रही है। शनिवार को रातभर हुई बारिश ने जनजीवन अस्तव्यस्त करके रख दिया। वहीं सोमवार सुबह से शुरू हुई बारिश ने स्मार्ट सिटी की ओर अग्रसर दून को बदहाल करके रख दिया है। सड़कों में पानी भरा हुआ है जिसकी वजह स गड्ढों का पता भी नहीं चल पा रहा है जो हादसों का कारण भी बन सकते हैं। शहर में स्मार्ट सिटी निर्माण कार्य के चलते कई मोहल्लों की सड़कें खोदी हुई हैं। बारिश के कारण ये सड़कें कीचड़ से भर गईए जबकि कई जगह क्षतिग्रस्त सड़कों पर आवाजाही मुश्किल हो गई।

मौसम विभाग ने जारी किया आरेंज अलर्ट 
वहीं मौसम विभाग ने प्रदेश में आज आरेंज अलर्ट जारी किया है। मैदानी क्षेत्र में जलभराव की समस्या से लोगों को दो चार होना पड़ रहा है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक 19 जुलाई को उत्तराखंड में ओरेंज अलर्ट है। 19 जुलाई को देहरादूनए हरिद्वारए नैनीतालए पौड़ी जिले में कहीं कहीं अत्यंत भारी बारिश की संभावना है। कई इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। निचले इलाकों में जलभराव की समस्या हो सकती है। 20 जुलाई का यलो अलर्ट है।