Home अपराध शिकंजा: पुलिस की बड़ी कार्रवाई, वाहनों से अवैध वसूली करते पुलिसकर्मी व...

शिकंजा: पुलिस की बड़ी कार्रवाई, वाहनों से अवैध वसूली करते पुलिसकर्मी व दलाल गिरफ्तार

90
0

संवाददाता

नजीबाबाद, 09 अप्रैल। लंबे समय से अवैध वसूली का अड्डा बनी यहां की एक बदनाम पुलिस चौकी पर आखिरकार गाज गिर ही गई। सड़क से गुजरने वाले वाहनों से जबरन वसूली करने  वाले नजीबाबाद (यूपी) कोतवाली के अंतर्गत कोटद्वार रोड पर जाफराबाद स्थित पुलिस चौकी में तैनात पुलिसकर्मियों के खिलाफ उच्च अधिकारियों ने बड़ी कार्रवाई की है। जानकारी के अनुसार,   मुरादाबाद रेंज के डीआईजी शलभ माथुर के निर्देश पर  की बुुधवार की रात मुरादाबाद से आई टीम ने नजीबाबाद थाना क्षेत्र के कोटद्वार रोड स्थित जफराबाद चौकी पर छापा मार कर पुुुलिसकर्मियों को वाहनों से वसूली करते रंगेेेेहाथोंं पकड़ लिया।
इस मामले में नजीबाबाद के कोतवाल को निलंबित कर दिया गया है जबकि चौकी इंचार्ज, हेड कांस्टेबल, सिपाही व पैसे वसूलने के लिए रखे गए तीन दलालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। बताया जाता है कि
इस मामले में दो पुलिसकर्मी मौके से फरार हो गए।
जानकारी के मुताबिक, डीआईजी शलभ माथुर ने वसूली की शिकायत पर बुधवार रात निरीक्षक राहुल कुमार के नेतृत्व में एक टीम  पुलिस चौकी पर भेजी। जाँच के दौरान टीम ने वहां पर पुलिसकर्मियों को नजीबाबाद की ओर से जाने वाले वाहनों से वसूली करते हुए पकड़ लिया। मौके पर तीन प्राइवेट लोगों को भी  दबोच लिया गया। छापे के दौरान टीम को देखकर दो पुलिसकर्मी वर्दी में ही जंगल में फरार हो गए जबकि चौकी इंचार्ज रामेश्वर चौकी पर बैठे मिले। मौके से चौकी इंचार्ज रामेश्वर और तीन प्राइवेट लोगों को हिरासत में ले लिया है।
 छापामार टीम के प्रभारी निरीक्षक राहुल कुमार की ओर से चौकी इंचार्ज रामेश्वर, हेड कांस्टेबल जफरुद्दीन और सिपाही आशीष कुमार, प्राइवेट व्यक्ति सचिन शर्मा, साकिर, निवासी जाब्तागंज व हर्षबर्धन, निवासी सलामाबाद शहर कोतवाली के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
चौकी इंचार्ज और तीन अन्य व्यक्ति हिरासत में हैं जबकि दो पुलिस कर्मी फरार बताए जा रहे हैं। पूरे मामले में एसपी डॉ धर्मबीर सिंह ने नजीबाबाद कोतवाल सत्यप्रकाश  और जाफराबाद चौकी इंचार्ज , हेड कांस्टेबल और सिपाही को निलंबित कर दिया गया है। योगी राज में पुलिस अधिकारियों की भ्रष्टाचार में लिप्त पुलिसकर्मियों के खिलाफ की गई इस कार्रवाई की जहां लोग खूब सराहना कर रहे हैं वहीं, बिजनौर जिले के भ्रष्ट पुलिस वालों में हड़कंप मचा हुआ है।