Home अपराध अपराध: फर्जीवाड़े की आरोपी नाजिया उपाध्याय पर 1 हजार रुपए का ईनाम...

अपराध: फर्जीवाड़े की आरोपी नाजिया उपाध्याय पर 1 हजार रुपए का ईनाम घोषित

172
0

पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के भाई की पत्नी है नाज़िया यूसुफ

संवाददाता
देहरादून, 14 जनवरी।

दून पुलिस ने लंबे समय से फरार चल रही कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के छोटे भाई सचिन उपाध्याय की पत्नी नाजिया की गिरफ्तारी के लिए कसरत तेज़ कर दी है। हाल ही में देहरादून के नये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक का पद संभालने के बाद डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने इस केस को गंभीरता से लिया है। उन्होंने फरार नाजिया पर एक हजार का इनाम घोषित किया है। नाजिया के खिलाफ राजपुर थाने में फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज है। इस मुकदमे में नाजिया करीब एक साल से फरार चल रही हैं। लंबे समय से धूल फांक रही उनकी फाइल एस एस पी डॉ योगेंद्र सिंह रावत के आते ही खुल गई है।

गौरतलब है कि राजपुर रोड स्थित डब्ल्यूआइसी क्लब से जुड़ी नाजिया यूसुफ कांग्रेस नेता किशोर उपाध्याय के भाई सचिन उपाध्याय की पत्नी हैं। उनके खिलाफ दूसरे की जमीन पर करोड़ों का लोन फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज है। इस मुकदमे में नाजिया जनवरी 2020 से फरार चल रही हैं। इसकी रिपोर्ट एसएसपी को मिलने पर गत दिवस एसएसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने पुलिस रेगुलेशन के निहित प्रावधानों के अनुसार कार्रवाई करते हुए नाजिया यूसुफ पर ₹1000 की धनराशि का इनाम घोषित किया है।

 

नाजिया युसूफ पत्नी सचिन उपाध्याय निवासी चालंग, थाना- राजपुर, देहरादून पर मुकदमा संख्या 24 / 17 धारा 420 /467 /468 /471 /120 बी भादवि थाना राजपुर जनपद देहरादून में दर्ज हैं जो गत वर्ष 19 जनवरी 2020 से वांछित है।

थाना राजपुर में दर्ज मामले में एसआईटी जांच चल रही थी और इसी मुकदमे में सचिन उपाध्याय जेल गया था लेकिन सचिन उपाध्याय की पत्नी 17 जनवरी 2020 से फरार चल रही थी। पुलिस की तमाम कोशिशों के बावजूद नाजिया जब पकड़ में नहीं आई तो कोर्ट ने नाजिया के खिलाफ धारा 82 की कार्रवाई करते हुए उन्हें फरार घोषित किया था।
थाने में दर्ज मुकदमे में आरोप है कि सचिन उपाध्याय एवं उनकी पत्नी नाजिया ने अपने पार्टनर मुकेश जोशी की संपत्ति को खुर्द बुर्द कर अपने आप को संपत्ति का पूर्ण मालिक बताते हुए बैंकों से करोड़ों रुपए का लोन ले लिया था। मामले में 2017 में राजपुर थाने में धारा 420,467,468, 471, 120 बी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज हुआ।