Home अपराध दंड: कलयुगी जीजा को मिली 10 साल की सजा, नाबालिग साली को...

दंड: कलयुगी जीजा को मिली 10 साल की सजा, नाबालिग साली को बनाया था हवस का शिकार

249
0

संवाददाता
नैनीताल, 05 मार्च।

यहां की एक अदालत ने कलयुगी जीजा को दस साल की सजा सुनाई है। उस पर अपनी नाबालिग साली से दुष्कर्म करने का आरोप था। अभियोजन पक्ष के अनुसार, ससुराल पहुंचे आरोपी दामाद ने  घर में मौजूद 12 साल की नाबालिग साली को अकेला पाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।

करीब ढाई साल तक मुकदमा चलने के बाद आरोपी को अदालत ने दस साल की कैद की सजा सुनाई।  कोर्ट ने उस पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया। साथ ही न्यायालय ने पीड़िता को निर्भया फंड से एक लाख रुपये प्रतिकर दिलाने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को भी पत्र लिखा है।
घटना उत्तराखंड के नैनीताल जिले में हल्द्वानी क्षेत्र के मानपुर में घटी थी। अभियोजन पक्ष के मुताबिक 23 जून 2018 को हल्द्वानी कोतवाली में एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें उसनेे अपने ही  दामाद पर नाबालिग बेटी के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था।

महिला का कहना था कि 27 मई 2018 को मुरादाबाद निवासी दामाद उसके घर पर आया हुआ था। जब घरवालेे किसी काम से बाहर गए थे, दामाद ने उसकी 12 साल की नाबालिग बेटी को अकेली पाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपी दामाद ने किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी।
इस  घटना के बाद से किशोरी गुमसुम रहने लगी। 23 जून को भाभी के घर आने पर किशोरी ने उसे दुष्कर्म वाली बात बताई।  पीड़िता की मां तक बात पहुंची तो उसने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने आरोपित दामाद के विरुद्ध धारा 376, 506 व 5एन/6 पाक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।
मुकदमे  में अभियोजन पक्ष की ओर से आठ गवाह न्यायालय में पेश किए गए। गुरुवार को मामले में विशेष न्यायाधीश पाक्सो अर्चना सागर ने अपना आदेश सुनाते हुए जीजा को नाबालिग साली से दुष्कर्म का दोषी ठहरया। उसे धारा 5एन/6 पाक्सो अधिनियम में 10 साल कैद व 20 हजार अर्थदंड, धारा 506 में तीन साल कैद व पांच हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई।