Home उत्तराखंड प्रशंसनीय: खोई महिला को इस कुंंभ में अपनों से मिला दिया...

प्रशंसनीय: खोई महिला को इस कुंंभ में अपनों से मिला दिया मित्र पुलिस ने 

165
0

संवाददाता

ऋषिकेश, 07 अप्रैल।

कुंभ के मेले में बिछड़ जाने और फिर सालों बाद फिर से मिल जाने के संयोग के किस्से अक्सर फिल्मों में या कथा कहानियों में देखने पढ़ने को मिलते हैं। लेकिन उत्तराखंड की काबिल पुलिस ने इस संयोग को हकीकत में बदल कर दिखा दिया है। मित्र पुलिस की मेहनत के दम पर पांच साल पहले 2016 के अर्द्धकुंभ में परिवार से बिछड़ गई एक महिला आज फिर से अपने परिवार से मिल पाई। यह सब संभव हो पाया कुंभ पुलिस द्वारा स्थापित ‘खोया पाया केंद्र’ के माध्यम से।
दरअसल, इस वर्ष कुंभ पुलिस के खोया पाया केंद्र की मदद से अब तक कुल 400 लापता लोगों को अपनों से मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इसी क्रम में पुलिस उस वक्त हैरान रह गई जब उसे पता चला  कि बुधवार को अपने परिवार से मिलने वाली एक महिला ठीक पांच साल पहले 2016 के अर्धकुम्भ में परिवार से बिछुड़ कर लापता हो गई थी।


जानकारी के मुताबिक, यूपी के सिद्धार्थनगर जिले के नादेपुर गांव की कृष्णा 5 साल पहले अर्द्धकुंभ में अपने परिवार से बिछड़ गई थी। बताया जाता है कि बेटी की मौत के बाद वह मानसिक तनाव से गुजर रही थी। 2016 के अर्द्धकुंभ  में  तीर्थस्नान करने के लिए परिवार वालों के साथ घर से हरिद्वार और ऋषिकेश पहुंची। तीर्थ यात्रा के दौरान उसे जीवन से इतनी विरक्ति हो गई कि लौटकर कभी घर वापस नहीं गई।
कुंभ पर्व को देखते हुए मेला पुलिस इन दिनों लोगों का सत्यापन कर रही है। इस दौरान कृष्णा देवी का मूल ठिकाना मिल गया। पुलिस की सूचना पर उनके पति, बेटा और बेटी ऋषिकेश कुंभ थाना पहुंचे। पांच साल पहले बिछड़ी हुई कृष्णा का जब अपने परिवार से मिलन हुआ तो खुशी से पूरे परिवार की आंखें भर आईं।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, 72 वर्षीया कृष्णा देवी पिछले पांच साल से ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट में जिंदगी बिता रही थी। कृष्णा देवी 17 अगस्त 2016 से लापता थी। उनके पति ज्वाला प्रसाद ने उनकी गुमशुदगी भी दर्ज कराई थी। परिजन उसे खोजते रहे लेकिन  कहीं उनका पता नहीं चला। इस साल कुंभ मेले को देखते हुए 11 जनवरी को त्रिवेणी घाट में रहने वाले बेसहारा लोगों का पुलिस ने सत्यापन कराया। इस दौरान एक बुजुर्ग महिला ने अपना पता यूपी के जनपद सिद्धार्थनगर में जोगिया उदयपुर का बताया। फिर पुलिस ने अपने स्तर पर संबंधित थाने को कृष्णा देवी से संबंधित जानकारी भेजी। चार महीने के बाद पुलिस उसके परिजनों तक पहुंची और फिर उनको ऋषिकेश बुला लिया। बुजुर्ग महिला के पति ज्वाला प्रसाद ने उत्तराखंड पुलिस का आभार जताया और पूरा परिवार खुुश खुशी घर को लौट गया।