Home उत्तराखंड वर्षगांठ: नमक सत्याग्रह के केन्द्र रहे खाराखेत में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत...

वर्षगांठ: नमक सत्याग्रह के केन्द्र रहे खाराखेत में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने की पदयात्रा

179
0

संंवाददाता
देहरादून 13 मार्च।

शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान नमक आंदोलन के केंद्र रहे देहरादून के नंदा की चौकी, पौंधा व खाराखेत गांव में सत्याग्रह स्थल तक पदयात्रा की। नमक सत्याग्रह की वर्षगांठ पर उन्होंने महात्मा गांधी को नमन करते हुए  स्वतंत्रता आन्दोलन में अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों को याद किया और श्रद्धांजलि अर्पित की। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सर्वोदय आन्दोलन से जुड़े लोगों को सम्मानित भी किया।

पदयात्रा कार्यक्रम में महात्मा गांधी की दांडी यात्रा के दौर के युवा आन्दोलनकारी खड़क बहादुर बिष्ट व ज्योतिराम कांडपाल भी शामिल हुए। अपने संबोधन में हरीश रावत ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान देहरादून के खाराखेत में आंदोलनकारियों ने नमक बनाकर  ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती दी थी। राजधानी से महज 18 किलोमीटर दूर इस गांव ने भी नमक सत्याग्रह में अपना अभूतपूर्व योगदान दिया था, जहां महात्मा गांधी के नमक सत्याग्रह की यादें बरकरार हैं। यहा नून नदी के नमकीन पानी से आजादी के मतवालों ने वर्ष 1930 में नमक बनाकर ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा कि यहां बने स्मारक को पर्यटन विभाग ने संजोया तो है लेकिन यहां तक पहुंचने वाली सड़क बदहाल है। वर्ष 1930 में महात्मा गांधी के नेतृत्व में आजादी के दीवाने देशभर में नमक कानून तोड़ने के लिये एकजुट हो रहे थे। 20 अप्रैल की दोपहर अखिल भारतीय नमक सत्याग्रह समिति के बैनर तले महावीर त्यागी व साथियों की अगुवाई में आजादी के मतवाले खाराखेत में एकत्रित हुए और नमक बनाकर ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती थी। उन्होंन पुरानी यादों का जिक्र करते हुए बताया कि आन्दोलनकारियों ने सात मई 1930 तक छह टोलियों में वहां नून नदी पर नमक बनाया और फिर शहर के टाउनहॉल में बेचते हुए गिरफ्तार हुए।

पूर्व मुखमंत्री हरीश रावत ने अपने कार्यकाल में खाराखेत में कराये गये कई कार्यों को भी गिनाया। खाराखेत में जिस स्थान पर नमक कानून तोड़ा गया था, वहां मौजूद महात्मा गांधी के स्तम्भ व सभी स्वतंत्रता सेनानियों के स्मारक पर उन्होंन पुष्प अर्पित किये। पदयात्रा में सर्वोदय मंडल से कुसुम रावत, देवेन्द्र बहुगुणा, अशोक नारंग, विजय शंकर शुक्ला, इंदु शुक्ला, हरवीर कुशवाह व वरिष्ठ कांग्रेस नेता शंकर चंद रमोला, आजाद अली, विनोद चौहान, गुलजार, राकेश नेगी, लक्ष्मी अग्रवाल, ग्राम प्रधान सुमन, राजीव जैन, सुशील राठी, प्रीत ग्रोवर, संग्राम सिंह पुंडीर समेत सैकड़ों साथी मौजूद रहे।