Home उत्तराखंड आंदोलन: मार्ग चौड़ीकरण की मांग करने वाले ग्रामीणों पर बरसाई लाठियां

आंदोलन: मार्ग चौड़ीकरण की मांग करने वाले ग्रामीणों पर बरसाई लाठियां

252
0

संवाददाता

गैरसैंण, 01 मार्च।

नंदप्रयाग घाट रोड के चौड़ीकरण को लेकर घाट में कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए उन पर पानी की बौछार भी की गई। लाठीचार्ज के दौरान वहां भगदड़ मच गई जिससे कई लोगों के घायल होने सूचना है।

घाट-नंदप्रयाग मार्ग चौड़ीकरण को लेकर विधानसभा का घेराव की कोशिश कर रहे थे। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं छात्र-छात्राएं वह बच्चे भी शामिल हुए। सोमवार को इन आंदोलनकारियों ने अपने प्रदर्शन को आगे बढ़ाते हुए नारेबाजी शुरू की। पुलिस ने बैरिकेडिंग करके रास्ता रोका हुआ था। रास्ता रोकने के बाद पुलिस और आंदोलनकारियों के बीच तीखी झड़प हुई।

इस दौरान पुलिस ने जंगलचट्टी बैरियर पर रोक दिया। पुलिस के बैरियर को पार कर आंदोलनकारी पैदल दिवालीखाल को निकल पड़े। आंदोलनकारियों ने जंगलचट्टी बैरियर को तोड़ दिया। तिरंगा यात्रा निकाल विधानसभा की ओर कूच किया। पुलिस ने उनपर पानी की भी बौछारें की। इस दौरान लाठियां भी भांजी गई। लोगों में भगदड़ भी मची।

विदित हो कि चमोली जिले में नंद प्रयाग घाट सड़क के चौड़ीकरण को लेकर मुख्यमंत्री भी पहले घोषणा कर चुके थे। जब कुछ नहीं हुआ तो लोगों ने वहां दिसबंर माह से धरना शुरू किया। जनवरी माह में ग्रामीणों ने अपने आंदोलन को बल देने के लिए करीब 25 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला भी बनाई थी।
तब ये मामला संज्ञान में आने पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिव लोक निर्माण विभाग को आवश्यक निर्देश दिए थे। उन्होंने कहा कि नन्दप्रयाग-घाट मोटर मार्ग के चौड़ीकरण के लिए आवश्यक परीक्षण करते हुए शीघ्र कार्यवाही की जाए। ताकी क्षेत्र की हजारों की आबादी वाले ग्राम सभाओं के लोगों की समस्याओं का समाधान हो सके। वहीं, इस मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी ग्रामीणों के साथ एक दिन धरने पर बैठ चुके हैं।